Ticker

6/recent/ticker-posts

MLM Ka Full Form In Hindi MLM kya hai एमएलएम क्या है पूरी जानकारी हिंदी में

 

MLM Kya Hai एमएलएम क्या है,MLM का मतलब क्या होता है,MLM कितने प्रकार के होते है।



दोस्तो आजकल आपने फेसबुक टेलीग्राम, अदर सोशल मीडिया में एमएलएम MLM के बारे में सुना होगा। आज हम इस पोस्ट में आपको MLM kya hai ,MLMमें क्या-क्या फायदे हैं के बारे में इस पोस्ट में बताएंगे।

कुछ अंतरराष्ट्रीय कंपनियां ऐसी है जो भारतीय बेरोजगारों को टारगेट करते हुए MLM कंपनियों का प्रचार प्रसार कर रही है।

भारत दुनिया का जनसंख्या की दृष्टि से दूसरा राष्ट है।

भारत की जनसंख्या जितनी अधिक है उसी संख्या से भारत में बेरोजगारी भी है।अमेरिका, इंग्लैंड  आदि बड़े देश नेटवर्क मार्केटिंग के लिए भारत जैसे देश को टारगेट कर रहे हैं। आपने फेसबुक में हमेशा  किसी ना किसी ग्रुप में  पोस्ट देखी होगी कि घर बैठे  ऑनलाइन इतने पैसे कमा सकते हैं।



MLM Kya Hai एमएलएम क्या
MLM Kya Hai



यह पोस्ट अधिकतर बड़े-बड़े देशों के लोगों के द्वारा की जाती है। जिस प्रकार से डिजिटल मार्केटिंग तेज हो रही है, उसी प्रकार से MLM भी से बढ़ रहा है।

जब कोई आपको mlm के  बारे में बताता है तो आपको कुछ भी समझ में नहीं आता होगा आता होगा। 

आने वाले समय में MLM भारत में तेजी से बढ़ता जाएगा।

MLM Kya Hai एमएलएम क्या है?

एमएलएम का हिंदी फुल फॉर्म में मल्टी लेवल मार्केटिंग।

Mlm को सेलिंग नेटवर्क मार्केटिंग भी बोला जाता है और रेफरल मार्केटिंग भी कहा जाता है।


MLM में एक प्लान होता है और उस प्लान का एक लीडर होता है।  लीडर अपनी अंतर्गत लोगों को जोड़ता है।  जो लोग इस प्लान के अंतर्गत जुड़ते हैं  उन्हें किसी कंपनी के प्रोडक्ट को  बेचना होता है।  प्रोडक्ट पहले से बने होते हैं, सिर्फ अपने लोगों तक सेल किया जाता है।


यह एक ऐसा नेटवर्क मार्केट है,जिसमें एक इंसान  अपने अंतर्गत बहुत सारे लोगों को जोड़ता है  और जो लोग इस प्लान में जोड़ते हैं, वह के प्लान के अंतर्गत दूसरे लोगों को जोड़ते हैं।  इस प्रकार  लोग एक प्लान के अंतर्गत जोड़ते हैं और यह धीरे-धीरे करके एक  चैन बन जाती है।


जब कोई कंपनी किसी प्रोडक्ट का उत्पादन करती है तो इस  कंपनी केप्लान से जुड़े लोग इस प्रोडक्ट को  दूसरे लोगों को  बेचेंगे  और साथ-साथ वह इस प्रोडक्ट का उपयोग  वह खुद भी कर सकते हैं ।


कंपनी के प्लान से जुड़े लोगों का काम कंपनी के प्रोडक्ट का प्रचार प्रसार करना  ताकि उनके प्रोडक्ट से सबको लाभ पहुंचे।  जब कोई इस कंपनी के प्रोडक्ट को   सेल करता है  तो उसे कमीशन मिलता है  और साथ में जिस इंसान ने उसे  इस प्लान में जोड़ा है उसको भी फायदा मिलता है। सभी कंपनी के प्रोडक्ट के  रोज अलग-अलग होते हैं। लेकिन  नेटवर्क मार्केटिंग कंपनी में आप बात नॉर्मल है जो व्यक्ति  कंपनी के प्लान में जितना पुराना होता है  उसको बहुत ज्यादा फायदा मिलता है।


नेटवर्क मार्केटिंग के नुकसान


 MLM में जो व्यक्ति शुरुआत में जुड़ता है वह सबसे निचली लेवल में होता है। इन व्यक्तियों को शुरुआत में बहुत काम करना पड़ता है और इन लोगों को ज्यादा से ज्यादा प्रोडक्ट को बेचना होता है इसके लिए भी अपने दोस्तों के पास जाते हैं और उन्हें इस प्रोडक्ट और mlm के बारे में बताते हैं दोस्तों को सलाह देते हैं कि  कि वह mlm में ज्वाइन हो जाए। इसमें उनका फायदा होता है उन के नीचे कोई व्यक्ति ज्वाइन हो जाता है।


MLM का मतलब क्या होता है?

हिंदी भाषा में MLM को बहु स्तरीय कंपनियां यानी कि नेटवर्क मार्केटिंग व डायरेक्ट सेलिंग या पिरामिड सेलिंग के नाम से भी पुकारा जाता है और MLM का मतलब यही है कि किसी प्रोडक्ट को डायरेक्ट सेल करना।

मल्टी लेवल मार्केटिंग यानी कि एमएलएम में एक कंपनी में ज्वाइन होता है और वह अपने साथ दूसरे व्यक्ति को भी ज्वाइन करवाता है इसके बाद यह एक पिरामिड और लोगों के समूह का एक नेटवर्क बन जाता है।

मल्टी लेवल मार्केटिंग का मतलब यही है कि 1 लेवल पर जाकर मौखिक रूप से किसी प्रोडक्ट का प्रचार प्रसार एक नेटवर्क के अंतर्गत करना।


MLM कितने प्रकार के होते हैं

एमएलएम मुख्य रूप से दो प्रकार के होते हैं।

1 सिंगल लेवल मार्केटिंग यानी SLM 

2 मल्टी लेवल मार्केटिंग जिसे एमएलएम कहा जाता है।

MLM बिजनेस में सफलता कैसे प्राप्त होगी?


भारत में बेरोजगारी बहुत ज्यादा है और यहां की  जनसंख्या काफी शिक्षित है। बेरोजगार लोग बेरोजगार लोग पैसे कमाने के लिए  वेबसाइट और प्लेटफार्म ढूंढते रहते हैं।


MLM 2020 से काफी चर्चित विषय बन चुका है और इस मार्केटिंग में  बहुत लोग सफलता प्राप्त कर चुके हैं।

लोग MLM में नए तरीकों को अपनाकर सफल हो रहे हैं।अगर आप भी एमएलएम बिजनेस में सफलता प्राप्त करना चाहते हैं। तो आपको कुछ बातों का ध्यान देना जरूरी होगा।


1 जब भी आप MLM कि किसी प्रोडक्ट कंपनी से  जोड़ते हैं तो सबसे पहले  उसके बारे में सारी जानकारी  एकत्रित करनी है।  कि वह कंपनी कितने साल से काम कर रही है।  उस कंपनी का संस्थापक कौन है, उस कंपनी की स्थापना कब की गई है,वह कंपनी किस देश की है  आदि।


आपकी जानकारी के लिए बता दें गूगल में बहुत सारी ऐसी फ्रॉड कंपनियां भी है  जिनसे आपको बच कर रहना है। उस  कंपनी से जुड़े लोगों का आप फीडबैक ले सकते हैं।


2 आपने  जिस कंपनी का प्लान ज्वाइन किया है उसे अच्छे से समझ ले अगर जब तक वह प्लान आपको समझ में नहीं आएगा  तब तक आप उस प्लान मेंअच्छे से काम नहीं कर सकते है। जब उस कंपनी के प्लांन कोको अच्छी तरीके से समझ जाते हैं, तब उस प्लान में अपने दोस्तों को शामिल करें।


3  कंपनी प्लान में शामिल होने के बाद उससे जुड़े लोगों से मेलजोल  बना कर  रखें और उस प्लान की कार्यशैली को सही प्रकार से सीखने की कोशिश करें  और अपने दोस्तों को भी  सिखाएं।


4 जब आप कंपनी के प्लान में अपने दोस्तों को ज्वॉइन  कराने से पहले  इस काम में कितने एक्टिव हैं इसकी जांच कर ले और उन्होंने इस काम को करने के लिए पूरी तरीके से हामी भरी हो तभी उन्हें इस काम में शामिल करें।


5  जिन लोगों ने कंपनी के प्लान में सफलता प्राप्त  कर ली हो।  उनसे आप सारी जानकारी और  काम करने के तरीके के बारे में जान सकते हैं।  आप उनसे यह पूछ सकते हैं कि उन्होंने किस प्रकार सफलता प्राप्त की है।


6 हमेशा कंपनी के प्लान के बारे में अपने दोस्तों और  अन्य लोगों को  सही जानकारी दें, अगर आप  झूठी जानकारी देंगे तो  अगली बार आप के ऊपर कोई भरोसा नहीं करेगा।


7 आपने कोई भी MLM कंपनी ज्वाइन की है, तो आप उसके सारे  मान्यता प्रमाण पत्र  चेक कर ले, आप हमेशा गवर्नमेंट कंपनी है  ज्वाइन करें।बहुत ही अच्छी कंपनियां भी हैं  जो लोगों के साथ धोखा करती है कंपनी ज्वाइन करने के बाद ऐसी कंपनियां आपसे पैसे मांगने लगती है और धमकियां भी देने लगती हैं।  आपको इन सभी कंपनियों से बच कर रहना है।


8 कंपनी प्लान के बारे में  पूरी जानकारी एकत्रित करें।


9 इस बात की भी जानकारी ले कि कंपनी का प्लान  1 साल का है या फिर वन टाइम ।


10 कंपनी के सभी प्रोडक्ट की रेट के बारे में जानकारी एकत्रित करें और साथ में  स्पॉन्सरशिप की जानकारी  भी एकत्रित करें।

MLM कंपनी का चुनाव कैसे करें?

जब आप कोई भी कंपनी का चुनाव करते हैं  तो आपको बहुत सारी बातों का ध्यान देना जरूरी है।  जैसे

1  सबसे पहले आप उस कंपनी की ऑफिशल वेबसाइट में जाएं उसके बारे में जानकारी एकत्रित करें।

2 उस कंपनी के सारे लीगल डाक्यूमेंट्स  चेक करें।

3  उसका  कंपनी का बैकग्राउंड चेक करें।

4 mlm  कंपनी का चुनाव करते समय इस बात का ध्यान दें कि वह किस देश की कंपनी है और उस कंपनी की स्थापना किसने की है। कंपनी कितने साल से काम कर रही है इन बातों का भी ध्यान रखें ।

5  उस कंपनी में काम कर रहे लोगों से  जानकारी प्राप्त करें।

6   कंपनी के  प्रोडक्ट के बारे में जानकारी एकत्रित करें।

7  कंपनी कितना कमीशन देती है  इसकी भी जानकारी प्राप्त करें।

इन सभी जानकारी को एकत्रित करने के बाद  आप किसी भी कंपनी को mlm  नेटवर्क मार्केटिंग के लिए चुन सकते हैं।  नेटवर्क मार्केटिंग के नाम पर  बहुत सारी कंपनियां लोगों के साथ  धोखा कर देती है।  ऐसे में लोगों का समय और  मेहनत बेकार जाती है।

इस बात का ध्यान रखिए अगर आपसे कोई कंपनी नेटवर्क मार्केटिंग के नाम पर  पैसे मांगती है इन्वेस्ट करने के लिए।आप को उन्हें कभी पैसा नहीं देना है।  अगर कोई इंसान हमें काम देता है तो वह हमसे कभी पैसे नहीं मांगता है। हमेशा ध्यान रखें कि कंपनी  का बैकग्राउंड कैसा है।

MLM बिजनेस के क्या लाभ है?

कोई भी बिजनेस हो उस  बिज़नस में कोई ना कोई लाभ जरूर होता है। उसी प्रकार MLM एमएलएम मल्टीपल लेवल मार्केटिंग में  बहुत ज्यादा लाभ भी है।  इस  बिजनेस में समय मांगा जाता है। अगर आप इस बिजनेस को ज्यादा से ज्यादा समय देंगे तो आपका बहुत ज्यादा लाभ होगा।


1  अच्छा कमीशन

MLM के बिजनेस में  अगर आप सफलता प्राप्त करते हैं  तो आपको बहुत अच्छा कमीशन मिलता है।  जानकारी के लिए बता दें  शुरुआत में आपको उतना अच्छा कमीशन नहीं मिलेगा  क्योंकि आप इस बिज़नेस में नए-नए होंगे  और आपको इस बिजनेस में बहुत ज्यादा मेहनत करनी पड़ेगी। ज्यादा से ज्यादा लोगों को ज्वाइन कराना होगा। अगर आप जितने ज्यादा लोग  ज्वाइन कराएंगे।आपको  बहुत ज्यादा  कमीशन प्राप्त होगा और  आपका एक नेटवर्क बनने के बाद आपको ज्यादा काम नहीं करना पड़ेगा।


2  टाइम मैनेजमेंट

जब आप mlm की  नेटवर्क मार्केटिंग में ज्वाइन हो जाते हैं  तो आप अपने समय की कदर करना सीख जाते हैं।  आप खाली समय में बैठकर लोगों को mlm  के प्लान को समझाने में  खर्च करते हैं।  जब आप इस  प्लान के अंदर आते हैं तो आपको समय की वैल्यू पता चलती है।

Mlm  टाइम मैनेजमेंट मांगता है। अगर आप अच्छे से टाइम को मैनेज कर लेते हैं  तो  मैं जल्दी सफलता प्राप्त कर  सकते हैं।


3  खुद का रोजगार

आप एमएलएम का बिजनेस जॉइन कर लेते हैं तो  आपका खुद का ही बिजनेस शुरू हो जाता है।  इसमें आपको कुछ भी पैसे नहीं लगाने होते हैं सिर्फ यह बिजनेस आपसे समय की मांग करता है। आप इस बिजनेस को जितना समय देंगे आप उतनी ही जल्दी सफल हो सकते हैं। भारत में बेरोजगारी तेजी से बढ़ती जा रही है  और ऐसे मैं बाहर की कंपनियां  भारत शासित देश को  इस बिजनेस टारगेट करना चाहती है।

Mlm  का बिजनेस इस समय तेजी से बढ़ रहा है।  इस बिज़नेस में किसी को भी कोई भी पैसा नहीं लगाना है ।


4  टीम वर्क

इस बिज़नेस में आपको  अकेले काम नहीं करना होता है।  शुरुआत में जब आप इस बिजनेस में ज्वाइन होते हैं तो आप सबसे निचले लेवल पर होते हैं । जब धीरे-धीरे करके आप लोगों को ज्वाइन कराते हैं।  तो आप सबसे ऊपर आ जाते हैं। एक नेटवर्क बनाने के बाद  आपका वर्क लोड भी कम होता है।

MLM नेटवर्क आधारित बिजनेस है।


5  हेल्पिंग नेचर

mlm  एक प्रकार का  हेल्पिंग बिजनेस है,  एक दूसरे की मदद करते हैं  बिना पैसों के।  अगर कोई बिजनेस करके पैसा कमाना चाहता है मल्टी लेवल मार्केटिंग उन्हें मौका देती है। 

अगर आप mlm  के साथ बिजनेस करना चाहते हैं  तो आप आसानी से इनकी कंपनी को ज्वाइन कर सकते हैं।

FAQ MLM Kya Hai


नेटवर्क मार्केटिंग का मतलब क्या है?

नेटवर्क मार्केटिंग का मतलब यह है  किसी प्रोडक्ट की मार्केटिंग के लिए 1 से अधिक लोगों की संख्या  नेटवर्क मार्केटिंग  कहलाती है।


नेटवर्क मार्केटिंग की शुरुआत कब हुई थी?

भारत में नेटवर्क मार्केटिंग की शुरुआत  1960 के आसपास  एक इंडियन कंपनी यूरेका के द्वारा  हुई थी।  अपने प्रोडक्ट की बिक्री के लिए  सीधा सेलर की भर्ती की थी। 1990 के दशक में  इंटरनेशनल कंपनियां  ने  भारत में  नेटवर्क मार्केटिंग में निवेश किया।

आज पूरे भारत में  नेटवर्क मार्केटिंग का  जाल बिक गया है।


एमएलएम क्या है MLM kya hai?

यह एक प्रकार की मल्टी लेवल मार्केटिंग है। इसमें किसी कंपनी के प्रोडक्ट को  एक  नेटवर्क बनाकर सेल किए जाते हैं। आज  पूरी दुनिया में MLM तेजी से बढ़ता जा रहा है।


भारत में नेटवर्क मार्केटिंग के जन्मदाता कौन है?

बहुत से लोगों का मानना है कि भारत में  नेटवर्क मार्केटिंग के  जन्मदाता  राजीव सिंह है।  इन्होंने ही भारत में मोदी केयर के तहत  नेटवर्क मार्केटिंग की शुरुआत की।  भारत में नेटवर्क मार्केटिंग के जन्मदाता  अधिकतर लोगों ने  राजीव सिंह को ही माना है।  लेकिन भारत में नेटवर्क र्मार्केटिंग की शुरुआत  1960 के दशक से हो गई है।


एमएलएम का फुल फॉर्म क्या है?

एमएलएम का  हिंदी में फुल फॉर्म मल्टी लेवल मार्केटिंग है। इसमें बहुत सारे लोग  किसी कंपनी के प्लांन को ज्वाइन करते हैं और उसके बाद उनके प्रोडक्ट के सेलिंग करते हैं ।


निष्कर्ष

आज नेटवर्क मार्केटिंग भारत में तेजी से बढ़ती जा रही है। आज बहुत सारे लोग नेटवर्क मार्केटिंग के माध्यम से हजारों रुपए घर बैठे कमा रहे हैं।

नेटवर्क मार्केटिंग भारत में बहुत से लोगों को रोजगार दे रही है। MLM एमएलएम ने  भारत में अपना  बिजनेस बढ़ा लिया है।

किस आर्टिकल में आपको MLM kya hai के  जानकारी मिल गई होगी। अब आप एमएलएम कंपनी को आसानी से ज्वाइन कर सकते हैं।