ATM ka full from एटीएम का फुल फॉर्म

ATM ka full form
ATM ka full form


आजकल अधिकतर लोग  बैंक में जाने की वजह  एटीएम से पैसे निकाल लेते हैं  और एटीएम के  जरिए  पैसे अपने अकाउंट में जमा कर देते हैं। ATM का प्रयोग  हम अपने  रोज की जिंदगी  में करते हैं।  इस आर्टिकल में हम आपको  ATM ka full form  के बारे में  और एटीएम  के बारे में  पूरी जानकारी  बताएंगे।


ATM का  इस्तेमाल  पूरी दुनिया में किया जाता है और दुनिया के हर देश में से अलग नाम से जाना जाता है। Canada में ATM को   ऑटोमेटिक बैंकिंग मशीन  के नाम से जाना जाता है  और अन्य देशों में  इसे कैश मशीन, मिनी बैंक के  नाम से जाना जाता है। 

ATM ka full form  एटीएम का फुल फॉर्म  हर एक एग्जाम में पूछा जाता है।  यह आर्टिकल आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण रहेगा।


ATM एटीएम क्या है

एटीएम एक प्रकार की इलेक्ट्रॉनिक मशीन है जिसका प्रयोग हम पैसे निकालने के लिए या  वित्तीय लेनदेन के लिए  करते हैं।  एटीएम ने वित्तीय सुविधा को बहुत आसान बना दिया है  आप लोगों को बैंक जाने की आवश्यकता नहीं है एटीएम के द्वारा ही सारे काम हो जाते हैं।  एटीएम कार्ड में बैंक द्वारा उपलब्ध होता है और इस कार्ड की सारी जानकारी बैंक के पास होती है।  एटीएम कार्ड प्लास्टिक से बना होता है।  एटीएम कार्ड के द्वारा ही हम सारे वित्तीय लेनदेन करते हैं।


एटीएम का हिंदी फुल फॉर्म

स्वचालित टेलर मशीन है।

ATM का  पूरा नाम है

ऑटोमेटिक टेलर मशीन  Automated teller machine है।


एटीएम का  आविष्कार  जॉन शेफर्ड बैरन  ने किया।

 

भारत का पहला ATM  हांगकांग और शंघाई बैंक द्वारा 1987 में  केरल में स्थापित किया गया।


दुनिया का पहला ATM  इंग्लैंड की राजधानी लंदन में Barcyal बैंक  द्वारा   1967 में   स्थापित किया गया।

दुनिया का फर्स्ट floating एटीएम   भारतीय स्टेट बैंक ने  केरल में स्थापित किया। 

एटीएम का प्रयोग  करने वाला दुनिया का पहला व्यक्ति

दुनिया के प्रसिद्ध रेग वर्नी  कॉमेडी अभिनेता ने  एटीएम से  पैसे  निकाले थे।

ICC ka full from kya hai

एटीएम कितने प्रकार के होते हैं

एटीएम दो प्रकार के होते हैं  ऑफलाइन एटीएम और ऑनलाइन एटीएम।

ऑनलाइन एटीएम  बैंक के डाटा से  24 घंटे  तक जुड़ा रहता है। आप अपने खाते से  ज्यादा पैसे नहीं निकाल सकते हैं।

ऑफलाइन एटीएम  यह बैंक के  डेटाबेस से  जुड़ा नहीं होता है और इसके लिए आपके पास खाते की शेष जानकारी नहीं रहती है।  अगर आप इसे atm से शेष राशि निकालते हैं तो  आपके ऊपर कुछ जुर्माना  लग सकता है।  

ऑनसाइट एटीएम  यह बैंक के अंदर होता है और इसी को ऑनसाइट एटीएम के  नाम से जाना जाता है।

ऑफसाइट एटीएम ये  एटीएम बैंक के बाहर  विभिन्न स्थानों पर  होते हैं।


एटीएम में कितने पार्ट होते हैं

एटीएम में दो प्रकार की पार्ट होते हैं  आउटपुटऔर इनपुट।

ATM ka full form

इनपुट डिवाइस 

जब हम अपने एटीएम कार्ड को  एटीएम मशीन पर डालते हैं तो  वह हमारा सारा डाटा एकत्रित कर लेता है और  वेरिफिकेशन के लिए सर्वर को भेजता है  उसके बाद ही हम अपनी एटीएम कार्ड से पैसे निकाल सकते हैं।

कीपैड  अपने एटीएम कार्ड के नंबर को  और  नाम की राशि को कीपैड में डालते हैं तो बहुत सारा डाटा हमारा   इनपुट  हो जाता है।

आउटपुट डिवाइस

आउटपुट डिवाइस

आउटपुट डिवाइस में  स्क्रीन, प्रिंट स्लिप, और   कैश डिपॉजिट आते है।  इनके जरिए हमें  जानकारी मिल पाती है।

ATM ka full form 

एटीएम मशीन कैसे वर्क करती है

हमें बैंक के द्वारा एक एटीएम कार्ड प्रदान किया जाता है और एटीएम कार्ड को हम  एटीएम मशीन में डालने कर  अपने अकाउंट से   पैसे निकाल सकते हैं । इसके लिए कुछ प्रक्रिया करनी पड़ती है।

सबसे पहले हमको अपने बैंक में जाकर एटीएम कार्ड के लिए  अप्लाई करना होता है।

दिन के अंतर्गत  हमारा एटीएम कार्ड आ जाता है। एटीएम कार्ड से पैसे निकालने से पहले  हमें   एटीएम कार्ड का पिन बनाना पड़ता है  उसके बाद हम अपने अकाउंट से पैसे निकाल सकते हैं।

एटीएम कार्ड को  एटीएम के साइड में  अपना एटीएम कार्ड डालना होता है उसके बाद हमें अपना पिन नंबर,  अपना सेविंग अकाउंट या  करंट अकाउंट और अपनी अमाउंट राशि  डालनी पड़ती है।

BCCI ka full form kya hai


निष्कर्ष 

इस आर्टिकल से आपको ATM ka full form पता चल गया होगा।

ये भी पढ़ें

बिज़नेस आइडिया हिंदी में

गांव में कोन सा बिजनेस करे

Telegram se paise kaise kamaye

Paise kamane wala app

Googel se paise kaise kamaye